कश्मीरी पंडितों के अच्छे दिन वापस आएंगे

कश्मीरी पंडितों के अच्छे दिन वापस आएंगे

कश्मीरी पंडितों के खुशहाली भरे पुराने दिन वापस आएंगे ।उनके लिए ' नया कश्मीर ' के ब्लू प्रिंट को अंतिम रूप दिया जा रहा है ।खास उनके लिए कश्मीर के दस जिलों में दस टाउनशिप बनाए जाएंगे ।कश्मीरी पंडितों के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने यह भरोसा दिया है अमित शाह ने कहा कि उन्हें पूरी सुरक्षा के साथ बसाया जाएगा , जहां से उन्हें सबकुछ छोड़कर भागना पड़ा था ।प्रतिनिधिमंडल ने अनुच्छेद 370 और 35ए को निरस्त करने के लिए अमित शाह को धन्यवाद दिया ।

भजनपुरा इलाके में पिस्टल के बल पर बदमाशों ने दुकानदार से लूटी चैन

केंद्रीय गृह मंत्री के निवास पर करीब एक घंटे चली मुलाकात के बाद मंगलवार को सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्य ने बताया कि गृह मंत्री ने उन्हें बताया कि सरकार पूरी सुरक्षा मुहैया कराने के साथ - साथ जम्मू - कश्मीर प्रशासन में भागीदारी बढ़ाने पर भी विचार कर रही है ।इसके तहत कश्मीरी पंडितों के लिए सरकारी नौकरी में प्रवेश की सीमा 50 साल तक करने का प्रावधान ह सकता है । दरअसल इन पंडितों को कश्मीर छोड़े लगभग तीस साल हो गए हैं ।

 केंद्र सरकार विस्थापित कश्मीरी पंडितों की अपनी संपत्तियों को वापस हासिल करने में भी मदद करेगी । घाटी में तोड़े गए मंदिरों व धार्मिक स्थलों का जीर्णोद्धार भी करेगी ।

अमित शाह ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि अनुच्छेद 370 व 35ए के निरस्त होने के बाद राज्य की जनता को कई केंद्रीय योजनाओं का लाभ मिलने लगा है ।सरकार जम्मू - कश्मीर में निजी निवेश को बढ़ावा देने लिए अप्रैल महीने में बड़ा आयोजन भी करने जा रही है ।

वादे जो करने हैं पूरे

  •  पूरी सुरक्षा के साथ सरकार का प्रशासन में भागीदारी बढ़ाने का विचार
  • सरकारी नौकरी में प्रवेश की सीमा 50 साल तक करने का प्रावधान भी संभव 
  • विस्थापित पंडितों की संपत्तियां उन्हें वापस दिलाने में भी मदद करेगी सरकार
  • घाटी के दस जिलों में दस नई टाउनशिप बनाई जाएंगी ।

Post a Comment

Previous Post Next Post